Breaking News

पर्वत

पर्वत धरातल पर स्थित ऐसे उच्चावच , जिनका शीर्ष आधार तल की तुलना में संकुचित हो एवं ढाल तीव्र हो , पर्वत कहलाते हैं । पर्वत अपने आस – पास के क्षेत्र से इतने अधिक ऊँचे होते हैं कि वे दूर से ही स्पष्ट रूप से नजर आते हैं । …

Read More »

ज्वालामुखी के प्रकार

ज्वालामुखी के प्रकार ज्वालामुखी के प्रमुख प्रकार निम्नलिखित हैं- मृत ज्वालामुखी- इस प्रकार के ज्वालामुखी में विस्फोट प्रायः बन्द हो जाते हैं और भविष्य में भी कोई विस्फोट होने की सम्भावना नहीं होती । इसका मुख मिट्टी , लावा आदि पदाथों से बन्द हो जाता है और मुख का गहरा …

Read More »

ज्वालामुखी

ज्वालामुखी ज्वालामुखी ( Volcano ) एक छिद्र होता है , जिससे होकर पृथ्वी के अत्यन्त तप्त गर्म लावा , गैस , जल एवं चट्टानों के टुकड़ों से युक्त पदार्थ पृथ्वी के धरातल पर प्रकट होते हैं , जबकि ज्वालामुखीयता ( Volcanism ) में पृथ्वी के आन्तरिक भाग में मैग्मा व …

Read More »

चन्द्रग्रहण

चन्द्रग्रहण जब पृथ्वी की छाया चन्द्रमा पर पड़ती है , तो उसे चन्द्रग्रहण ( Lunar Eclipse ) कहते हैं । चन्द्र ग्रहण आंशिक या पूर्ण हो सकता है । पूर्ण चन्द्र ग्रहण तब होता है , जब चन्द्रमा पूरी तरह से पृथ्वी की छाया से ढक जाता है , जबकि …

Read More »

पृथ्वी की उत्पत्ति

पृथ्वी की उत्पत्ति पृथ्वी की उत्पत्ति के सम्बन्ध में सम्भवतः सर्वप्रथम तर्कपूर्ण परिकल्पना का प्रतिपादन फ्रांसीसी वैज्ञानिक ‘ कास्ते द बफन ‘ ने 1749 ई . में किया था । ग्रहों की उत्पत्ति में भाग लेने वाले तारों की संख्या के आधार पर वैज्ञानिक संकल्पनाओं को दो वर्गों में बाँटा …

Read More »

वायुमण्डल में वायु दाब

वायुदाब वायुमण्डल में उपस्थित गैसों में एक निश्चित भार होता है , उन्हीं गैसों द्वारा पृथ्वी पर पड़ने वाले दबाव को वायु दाब ( Air Pressure ) कहते हैं । इसे बैरोमीटर में प्रति इकाई क्षेत्रफल पर पड़ने वाले बल के रूप में मापते हैं । जलवायु वैज्ञानिकों ने इसके …

Read More »

आकाशगंगा

आकाशगंगा ब्रह्माण्ड के अन्तर्गत आकाशगंगा ( Galaxy ) सबसे बड़ी इकाई होती है । यह तारों का विशाल समूह है , जिसमें हजारों करोड़ तारे हैं । ब्रह्माण्ड में आकाशगंगा की संख्या करीब 10,000 मिलियन मानी जाती है और हर आकाशगंगा में अनुमानत : 1,00,000 मिलियन तारे ( Stars ) …

Read More »