पत्र लेखन, हिंदी व्याकरण

पुत्री का माताजी को पत्र | hindi letter writing

बालिका माध्यमिक विद्यालय

किशनगढ़

30 सितंबर 2022

परमपूज्य माताजी,

सादर प्रणाम

मै यहां सकुशल पहुंच गई हूं। मेरे आने के बाद पिताजी भी नौकरी पर छुट्टी से लौटते समय यहां होकर गए थे। मुझे काफी मिठाई और दूसरा सामान दे गए थे।

मैंने अपना कोर्स दुबारा पढ़ना प्रारम्भ कर दिया है। आपके कहने के बाद अब मैं रात को 10 बजे तक ही पढ़ती हूं। फिर सुबह 4 बजे उठकर पढ़ाई करती हूं। आपकी और पिताजी की बताई हुई बातों का सदा ध्यान रखती हूं। नरेश भैया बड़ी मेहनत कर रहे हैं। उनको आप लिखना कि रात को दूध ले लिया करें। वे मेरे कहने से नहीं पीते। मैं अपनी दो पुस्तकें,दो कापियां और एक सूक आपकी अटैची में रख आई हूं। किसी आनेवाले के हाथ या पिताजी के साथ उन्हें भिजवा देना।

सच मम्मी,आप सबकी बहुत याद आती है। नेहा को मेरी ओर से प्यार।

आपकी पुत्री

मीरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *