हिंदी व्याकरण, पत्र लेखन

रूपए मंगवाने हेतु पिता जी को पत्र | पत्र लेखन | patra lekhan | hindi grammar | money order latter

बसन्त विहार

अलवर

10 जुलाई, 2022

पूज्य पिताजी,

सादर चरण-स्पर्श।

अलवर पहुंचने के बाद यह मेरा पहला ही पत्र है। अब तक मैं प्रवेश-कार्य में लगा था। मेरा प्रवेश नवीन उच्च माध्यमिक विद्यालय में हो गया है। मैं और चाचाजी दोनों सकुशल हैं। खाना बनानेवाली रख ली है। सभी काम ठीक प्रकार चल रहे हैं। मेरा मन अच्छी तरह लग गया है

अब हमें घर का कुछ सामान तथा पुस्तकें खरीदने और अन्य खर्चों के लिए आप 1000/- आने जाने वाले के हाथ या मनिआर्डर से भेजा देना। मम्मी जी को चरण स्पर्श तथा दीदी को नमस्कार कहें।

आपका प्रिय पुत्र

महेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *