अनेकार्थक शब्द, हिंदी व्याकरण

120+अनेकार्थक शब्द | anekarthak shabd | hindi grammer

हिंदी मे कुछ शब्द ऐसे हैं जिनके एकाधिक अर्थ हैं तथा उनके भिन्न-भिन्न प्रयोगों से भिन्न-भिन्न अर्थ प्राप्त किए जाते हैं। हिंदी के प्रमुख अनेकार्थक शब्द इस प्रकार हैं –

अनेकार्थक शब्द
अनेकार्थक शब्द

अंकगिनती के अंक, अध्याय, भाग्य, चिह्न, देह, गोद, स्थान
अक्षआंख, सूर्यष सर्प, चौसर के पासे, पहिया, आत्मा
आत्माबुद्धिष जीवात्मा, ब्रह्मा, देह, पुत्र, वायु
आमआम का फल, सर्वसाधारण, मामूली
आपत्तिविपत्ति, एतराज़
अरुणलाल, सूर्य, सूर्य का सारथी
अपवादनियम के विरुद्ध, कलंक
अतिथिमेहमान, साधु, यात्री, खुश का बेटा, यज्ञ में सोमलता लानेवाला
अर्थधन, प्रयोजन, कारण, लिए
अमृतजल, पारा, दूध, स्वर्ण, घृत
अंबरआकाश, वस्त्र
अधरहोंठ, शून्य, नीचा, मध्य
अपेक्षाइच्छा, आवश्यकता, आशा, बनिस्बत
अनंतआकाश, शेषनाग, विष्णु
अजब्रह्मा, बकरा, दशरथ के पिता का नाम, जीव
अक्षरब्रह्म, वर्ण, गगन, धर्म, सत्य, अविनाशी

इ ई

ईश्वरप्रभु, समर्थ, स्वामी, धनिक
इंदुचंद्रमा, कपूर

उत्तरजवाब, बदला, पश्चाताप, उत्तर दिशा

 क

करहाथ, किरण, सूंड, टैक्स
कलाअंश, कार्य करने का कौशल
कनकसोना, धतूरा, गेहूं, पलाश, वृक्ष
क्रियाकार्य, व्यापार, उपाय, व्यवहार, श्राद्ध
केशबाल, विष्णु, विश्व, किरण
केतुज्ञान, निशान, ध्वजा, एक ग्रह, चमक
कृष्णवासुदेव-पुत्र, काला, कौआ, अंधकार
कोटिकरोड़, श्रेणी, धनुष का सिरा
कूटशिखर, छल-कपट, काग़ज़, पर्वत
कुंभघड़ा, हाथी का मस्तक
कुशलचतुर, खैरियत
कालसमय, मुहूर्त, अवसर, शिव, युग
कलबीता हुआ दिन, सुदंर, चैन या शांति, पुर्जा, मधुर, ध्वनि
कर्णकुंती-पुत्र, कान, पतवार, समकोण, त्रिभुज में सबसे बड़ी भुजा
कोटपहनने का वस्त्र, गढ़, परकोटा, रंग चढ़ाने की प्रक्रिया
कलाअंश, गुण, चंद्रमा का सोलहवां भाग

क्ष

क्षेत्रखेत, शरीर, स्त्री, गृह, नगर
क्षमापृथ्वी, सहिष्णुता, दया, रात्रि, दुर्गा

खलदुष्ट, धतूरा, दवा कूटने की खरल
खरदुष्ट, गधा, एक राक्षस, तीक्ष्ण, तृण, कौआ, बगुला
खगपक्षी, वायु, बात, ग्रह, बादल, देवता, सूर्य, चंद्रमा

गोगाय, आंख, इंद्रिय, बात, बाल, स्वर्ग, भूमि, सूर्य, माता, बैल, सरस्वती
गुरुशिक्षक, बड़ा, श्रेष्ठ, भारी, दो मात्रावाला स्वर, बृहस्पति
गुणरस्सी, कौशल, स्वभाव, प्रत्यंचा, विशेषता
गतिचाल, मोक्ष, स्थिति
गणसमूह, रुद्र के अनुसार, सेना, छंदशास्त्र के आठ गण

घनादाना, बादल, मोटा, हथौड़ा, कपूर, समान, लंबाई-चौड़ाई-मोटाईवाला आकार

च 

चश्माऐनक, झरना
चाराघास, उपाय

छंदवेद, जल, रंग, अभिप्राय, एकांत, पदादि

जलजकमल, मोती, मछली, चंद्रमा, सेवार, शंख
जलधरबादल, समुद्र
जगत्संसार, पनघट, वायु, शंकर, टेक
जीवनप्राण, आजीविका, जल, पुत्र, गंगा
जालमाया, छल, जाला, जानवरों को पकड़ने हेतु रस्सी की बुनावट

 त 

तीरबाण, किनारा, सरोवर, निकट
तालजलाशय, संगीत में ताल, ताड़वृक्ष
तारानक्षत्र, आंखों की पुतली, बलि की‌ पत्नी, बृहस्पति की पत्नी
तत्वसत्य, सार, धर्म, परिणाम, उद्देश्य, सूक्ष्मज्ञान
तमअंधकार, तमाल, वृक्ष, पापा राहू, अज्ञान, तमोगुण
तलतला, खंड, नीचे, वन, हथेली, स्वभाव, महादेव
तंत्रसिद्धांत, प्रबंध, शासन, उपाय, औषधि, खज़ाना

टीकातिलक, अभिषेक, मस्तक का आभूषण, टिप्पणी, आलोचना

 द

द्वंद्वकलह, एक समास विशेष, रहस्य, जोड़
द्विजब्राह्मण, पक्षी, दांत, चंद्रमा, द्विजन्मा
दंडडंडा, सजा, साठ पर की समय-अवधि, सेना, यमराज
दक्षिणअनुकूल, दक्षिण दिशा, उदार, चतुर, सरल

ध 

ध्रुवस्थिर, विष्णु भक्त, नित्य, विष्णु
धातुवीर्य, प्रकृति, व्याकरण के धातु, अष्टधातु, स्वर्ग
धर्मशुभ, कर्म, आचार, स्वभाव, कर्तव्य, संप्रदाय, व्यवस्था, रीति, न्याय, यज्ञ
धनंजयअर्जुन, आग, वायु, एक वृक्ष
धनजोड़(+), संपत्ति, स्त्री

नीलकंठशंकर, नीले, कंठवाला पक्षी विशेष, मोर
निशाचरचोर, राक्षस, उल्लूष प्रेत
निर्वाणमोक्ष, मुत्तु, संगम, विश्राम, शून्य
नागसांप, हाथी, वायु का एक भेद
नवनौ की संख्या, नया
नगपहाड़, नगीना, पदार्थ, वृक्ष, जड़

प 

प्राणप्राण वायु, जीव, ईश्वर, ब्रह्मा
प्रसवजन्म, फल, फूल
प्रभावअसर, महिमा, सामर्थ्य, दबाव
प्रत्ययविश्वास, ज्ञान, शब्द के बाद में जुड़ने वाला शब्दांश, निश्चय, कारण
प्रकृतिस्वभाव, धर्म, माया, खज़ाना, राज्य, जन्म, स्वामी, मित्र
पृष्ठपीठ, पन्ना, पीछे का भाग
पुष्करकमल, पुष्कर नाम का एक तीर्थ, तालाब, हाथी के सूंड के आगे का भाग, आकाश, बाण
पिंडशरीर, पितरों के लिए देय, गोल, जीविका
पानीजल, चमक, इज्ज़त
पानपीना, पत्ता, तंबाकू
पयदूध, पानी
पतंगसूर्य, गुड्डी, पक्षी, टिड्डी, फतिंगा
पक्षपंख, पखवाड़ा, दल, वाद का एक रूप, ओर, बल
पटवस्त्र, किवाड़, यवनिका, स्थान, मुख्य
पत्रपत्ता, चिट्ठी, पंख
पद्मकमल, संख्या विशेष, श्रीराम, सर्प, विशेष
पदपांव, चिह्न, स्थान, विभक्ति युक्त शब्द, किसी छंद का चतुर्थांश

बंसीबांसुरी, मछली फंसाने का कांटा, विष्णु, कृष्णादि के चरण-चिह्न

रसआनन्द, प्रेम, स्वाद, अर्क, तत्व, भोजन के छह रस, काव्य के नौ रस, पारा, मेल

मित्रदोस्त, सूर्य, प्रिय, सहयोगी
मानअभिमान, इज्ज़त, नाप-तौल
मधुशहद, शराब, पराग, बंसत ॠतु
महावीरहनुमान, शक्तिशाली, जैन तीर्थंकर

लक्ष्यनिशाना, उद्देश्य
लगनलौ, मुहूर्त, प्रेम, धुन

विग्रहदेवता की मूर्ति, शरीर, लड़ाई
वर्षसाल, संवत्, दृष्टि, पृथ्वी का एक खंड
वर्तमानविद्यमान, समय, प्रचलित
वरदूल्हा, वरदान, श्रेष्ठ, आशीर्वाद
वर्गजाति, गणित की एक क्रिया, समूह
वर्णरंग, ब्राह्मण आदि चार वर्ण, अक्षर

ब्याजसूद, बहाना, छल

श 

शिवशंकर, मंगल, शुभ
शकलआकृति, भाग, चिह्न, छिलका
शुद्धपवित्र, जिसमें मिलावट न हो, ठीक
शेषबचा हुआ, अंत, सर्प, सीमा

श्र

श्रीशोभा, लक्ष्मीष संपदा, कुंकुम, वाणी
श्रुतिवेद, सुनना, वाद, कान

सैंधवघोड़ा, एक प्रकार के नमक का प्रकार
सारंगएक राग, मोर, सर्प, बादल, हरित, पानी, चातक, सिंह, कामदेव, भौंरा, कमल, स्त्री, हंस, सुदंरी, कोयला कपूर आदि
सरतालाब, सिर, पराजित

हीनदीन, निकृष्ट, रहित
हलधरबलराम, किसान, बैल
हस्तीहाथी, अस्तित्व
हरिविष्णु, बंदर, सिंह, सूर्य, यमराज, किरण, पर्वत, वायु, कोयला, सर्प, मेंढक, घोड़ा, चंद्रमा
हरकतचेष्टा, नटखटपन, गति
हंसमराल, सूर्य, जीवात्मा, घोड़ा, योगी, सफेद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *